Home खेल डेविड वार्नर ने कहा कि भारत के खिलाफ तीसरे टेस्ट तक पूर्णता ठीक होना ‘काफी मुश्किल’

मेलबर्न । आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वार्नर ने कहा कि भारत के खिलाफ तीसरे टेस्ट से पहले पूर्ण फिटनेस हासिल करना ‘काफी मुश्किल’ है। वार्नर को भारत के खिलाफ दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान ग्रोइन में चोट लगी थी, जिसके बाद उनका सात से 11 जनवरी तक होने वाले तीसरे टेस्ट के लिए पूरी तरह फिट होना मुश्किल लग रहा है। वह श्रृंखला के पहले दो टेस्ट में भी नहीं खेल सके थे, जहां पारी का आगाज करने वाले जो बर्न्स और मैथ्यू वेड उम्मीदों पर खरा उतरने में नाकाम रहे। फिटनेस के बारे में वार्नर ने कहा, कि हमें आज और कल ट्रेनिंग सत्र में हिस्सा लेना है, इसकारण मैं आपको इससे अधिक संकेत नहीं दे सकता कि अभी मेरी स्थिति क्या है। मैंने पिछले कुछ दिन से ट्रेनिंग नहीं की है लेकिन आज और कल की ट्रेनिंग के बाद बेहतर संकेत मिलेगा कि मेरी स्थिति क्या है। क्या मैं शत प्रतिशत फिट हो जाऊंगा? काफी मुश्किल है। उनके अगले बयान में हालांकि क्रिकेट आस्ट्रेलिया और टीम प्रबंधन की उन्हें खिलाने को लेकर उत्सुकता का पता चलता है। लेकिन मैं मैदान पर उतरने और खेलने के लिए हर संभव प्रयास करूंगा। अगर इसका मतलब यह है कि मैं शत प्रतिशत फिट नहीं हूं,तब भी अगर चयनकर्ता हरी झंडी देते हैं तो मैं हर संभव प्रयास करूंगा।
वार्नर ने कहा कि कुछ नेट सत्र के दौरान उन्होंने पैर बाहर निकालकर खेलने का प्रयास नहीं किया लेकिन उन्हें पता है कि मैदान के दौरान कितने जज्बे की जरूरत होती है। नेट पर बल्लेबाजी करने से संभवत: मुझे मदद मिली क्योंकि मुझे पता चला कि मुझे गेंद के मेरे करीब गिरने का इंतजार करना पड़ रहा है और मैं उस तक नहीं पहुंच रहा और एक जगह खड़ा होकर खेलने का प्रयास कर रहा हूं। यह कहना अजीब है। वार्नर की प्राथमिकता अधिक शॉट खेलने की जगह यह देखना है कि क्या वह गेंद को खेलने के बाद तेजी से एक रन लेने में सक्षम है या नहीं।
उन्होंने कहा कि मेरे लिए विकेटों के बीच मेरी गति है जो मायने रखती है, इसके अलावा कुछ नहीं। इससे भी अधिक कि मैं कौन से शॉट खेल पा रहा हूं या नहीं, देखना होगा कि मैं शॉट खेलने के बाद तेजी से एक रन ले पा रहा हूं या नहीं। ये ऐसी चीजें हैं जिसके लिए मैं शत प्रतिशत फिट होना चाहता हूं और इस मामले में ऐसा नहीं होने जा रहा। एक और बड़ी चिंता यह है कि कैच लेने या लेग स्लिप या लेग गली में क्षेत्ररक्षण करते हुए क्या वार्नर अपने दाई या बाई ओर डाइव लगा पाएंगे। टीम वार्नर को खिलाने को लेकर कितनी उत्सुक है इसका अंदाजा उनके रिहैबिलिटेशन कार्यक्रम से भी लगता है जिसमें उन्हें दर्द निवारक दवा के इंजेक्शन भी दिए गए। उन्होंने कहा,‘रिहैबिलिटेशन की बात करूं तो दर्द मुक्त होने के लिए मैंने कुछ इंजेक्शन लिए और पहले दो हफ्ते चुनौतीपूर्ण थे। पलंग पर हिलना-डुलना भी मुश्किल था, कार के अंदर बैठना और बाहर निकलना। पहले इंजेक्शन से थोड़ा दर्द मुक्त होने में मदद मिली और मैं कुछ रिहैबिलिटेशन कर पाया।
हम पर नहीं है कोई दबाव
डेविड वार्नर ने तीसरे टेस्ट मैच से पहले बड़ा बयान देकर कहा कि भारत के खिलाफ खेलते समय हमेशा दबाव होता है। लेकिन ऑस्ट्रेलियाई टीम के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद उन्होंने बल्लेबाजों पर दबाव को खारिज कर दिया। ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए इस सीरीज में बल्लेबाजी चिंता का विषय रही है। बल्लेबाजी के मुख्य आधार मार्नस लाबुशेन और स्टीव स्मिथ अपनी क्षमता से अधिक रन नहीं बना पाएं लेकिन वार्नर को अभी इन खिलाड़ियों पर भरोसा है।
वार्नर ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि इसमें मुझ पर कोई दबाव है। यह हम सभी के बारे में है कि हम क्या जानते हैं और हम क्या करने में सक्षम हैं। यह सीरीज 1-1 की बराबरी पर है। यह सीरीज हमेशा ही दबाव वाली रहती है, लेकिन मुझ पर कोई अतिरिक्त दबाव नहीं है। मुझे पता है कि मुझे क्या करना है। मैं हर बार कोशिश करता हूं कि जितना हो सके उतना अच्छा प्रयास करने और आत्मविश्वास के साथ मैदान पर उतरता हूं।

Share with your Friends

Related Articles

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More