Home व्यापार जियो टावर तोड़फोड़ मामला

रिलायंस ने कहा- कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से हमारा कोई लेना-देना नहीं, कंपनी ने हाईकोर्ट में अर्जी लगाई
कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे विरोध आंदोलन के बीच रिलांयस जियो के मोबाइल टावर टारगेट किए जा रहे हैं। इसमें रिलायंस और अदाणी के प्रोडक्ट्स का विरोध किया जा रहा है। नतीजतन पंजाब में रिलायंस जियो के 1500 से अधिक टावर तोड़े जा चुके हैं। इस पर अब कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि कंपनी का कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से कोई लेना देना नहीं है। साथ ही कंपनी ने राज्य सरकार से मामले को नोटिस में लेने की भी अपील की है।

कंपनी ने क्या कहा –

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, रिलायंस रिटेल लिमिटेड (RRL), रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड (RJIL) और रिलायंस से जुड़ी कोई भी अन्य कंपनी न तो कॉरपोरेट या कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग करती है और न ही करवाती है। और न ही भविष्य में इस बिजनेस में उतरने की कंपनी की कोई योजना है।
“कॉर्पोरेट” या “कॉन्ट्रैक्ट” खेती के लिए रिलायंस या रिलायंस की सहायक किसी भी कंपनी ने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से खेती की कोई भी जमीन हरियाणा/पंजाब अथवा देश के किसी दूसरे हिस्से नहीं खरीदी है। न ही भविष्य में भी ऐसा करने की हमारी कोई योजना है।
भारत में संगठित रिटेल कारोबार में रिलायंस रिटेल एक अग्रणी कंपनी है। यह देश में दूसरी कंपनियों, निर्माताओं और आपूर्तिकर्ताओं के विभिन्न ब्रांडों के खाद्य, अनाज, फल, सब्जियां और दैनिक उपयोग की वस्तुएं, परिधान, दवाएं, इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट्स सहित सभी कटेगरी के प्रोडक्ट्स को बेचती है। यह किसानों से सीधी खरीद नही करती। किसानों से अनुचित लाभ लेने के लिए कंपनी ने कभी भी लंबी अवधि खरीद कॉन्ट्रैक्ट नहीं किए हैं, और न ही ऐसा कभी होगा।
130 करोड़ भारतीयों का पेट भरने वाले किसान अन्नदाता हैं और उनका हम सम्मान करते हैं। रिलायंस और उसके सहयोगी किसान को समृद्ध और सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसलिए कंपनी और उसके सहयोगी कड़ी मेहनत और समर्पण के साथ पैदा की गई उनकी उपज का किसानों को उचित और लाभदायक मूल्य मिले इसका पूरा समर्थन करते है। रिलायंस स्थायी आधार पर किसानों की आय में वृद्धि चाहता है, और इस लक्ष्य के लिए काम करने को प्रतिबद्ध है।
रिलायंस ने प्रतिद्वंद्वी कंपनियों पर लगाए आरोप

रिलायंस की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि दोनों राज्यों में कंपनी के मोबाइल टावर में हुई तोड़फोड़ के पीछे प्रतिद्वंदी कंपनियों का भी हाथ है। कंपनी दूरसंचार विभाग में इसकी शिकायत भी कर चुकी है। हालांकि कंपनी ने किसी भी प्रतिद्वंदी कंपनी का नाम नहीं लिया है। लेकिन इस शिकायत के बाद एयरटेल और वोडाफोन आइडिया (Vi) ने इस आरोप को पूरी तरह बेबुनियाद बताया है। इन कंपनियों ने भी इस विषय में दूरसंचार विभाग को चिट्ठी भेजी है।

दोनों राज्यों में कंपनी की उपस्थिति

कंपनी ने बताया कि देश में उसके कुल 40 करोड़ ग्राहक हैं। इसमें 31 अक्टूबर, 2020 तक जियो के पंजाब में कुल 1 करोड़ 40 लाख (राज्य में लगभग 36% ग्राहक) और हरियाणा में 94 लाख (राज्य में लगभग 34% ग्राहक) हैं। केवल पंजाब में लगभग 9,000 मोबाइल नेटवर्क रिलायंस जियो के हैं।

कंपनी ने हाई कोर्ट में दायर की याचिका

कंपनी ने पंजाब और हरियाणा दोनों राज्यों की पुलिस का शुक्रिया करते हुए कहा कि इससे हाल के दिनों में तोड़ फोड़ की घटनाओं में कमी आई है। हालांकि कंपनी ने हाई कोर्ट में अपनी याचिका के तहत उपद्रवियों और निहित स्वार्थी तत्वों के खिलाफ दंडात्मक और निवारक कार्रवाई की मांग की है, ताकि रिलायंस पंजाब और हरियाणा में एक बार फिर से अपने सभी कारोबार को सुचारू रूप से चला सके।

Share with your Friends

Related Articles

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More