Home देश एक तरफ वैक्सीन से राहत तो दूसरी तरफ समतल होने की कगार पर कोरोना के मामले

एक तरफ वैक्सीन से राहत तो दूसरी तरफ समतल होने की कगार पर कोरोना के मामले

by admin

नई दिल्ली । कोविड से जंग के मोर्च पर एक और राहत भरी खबर है। हाल ही में दो-दो वैक्सीन को डीसीजीआई की मंजूरी मिली है। वहीं, कम से कम पांच ऐसे राज्य हैं जहां कोविड के सक्रिय मरीजों की संख्या लगातार गिर रही है और उनका ग्राफ समतल होने की ओर है। इन राज्यों में पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र शामिल हैं। अगर इस रफ्तार से भी चले तो जल्द ही इन राज्यों की स्थिति में काबिलेगौर सुधार दर्ज हो जाएगा। हालांकि अगर केरल के आंकड़ों पर गौर करें तो वहां भी सक्रिय मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है मगर अभी केरल सुधार के वो संकेत नहीं दे रहा जो ऊपर गिनाए गए पांच राज्य दे रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए इन पांचों राज्यों के आंकड़ों पर गौर करें तो एक सुकून का अहसास होता है। कोविड की सबसे बुरी मार झेलने वाले वाले राज्य महाराष्ट्र में बीते सितंबर के दौरान प्रतिदिन नए मामलों की संख्या 20 हजार तक पहुंच गई थी मगर अब यह संख्या तीन हजार के आसपास है। तीन जनवरी को यहां कुल 3282 नए मामले सामने आए। इसी तरह से अगर कर्नाटक की बात करें तो यहां तीन जनवरी को केवल 810 नए मामले सामने आए। इस राज्य में अक्तूबर के महीने में नए मामलों का ग्राफ दस हजार पहुंच गया था, लेकिन उसी महीने में यह नीचे गिरने लगा और अब लगातार समतल होता जा रहा है। कमोबेश यही हालात उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल के हैं। यूपी में तीन जनवरी को जहां केवल 769 मामले सामने आए वहीं छत्तीसगढ़ में 537 तो पश्चिम बंगाल में 896 नए कोरोना संक्रमित सामने आए। इन सभी राज्यों में नए मामलों का ग्राफ लगातार नीचे की ओर जा रहा है, जोकि राहत का संकेत है। केरल में उठी दूसरी लहर भी अब शांत पड़ती दिख रही है, मगर कुछ भी पुख्ता कहने के लिए अभी इंतजार करना होगा। यहां तीन जनवरी को 4668 नए मामले सामने आए। अगर ग्राफ पर नजर डालें तो अक्तूबर के बाद कुछ गिरावट दर्ज हुई है, हालांकि यह बहुत उत्साहजनक नजर नहीं आ रही।

Related Posts

Leave a Comment