Home छत्तीसगढ़ शासन बेमेतरा जिले में लैब टेक्नोलॉजिस्ट संजय तिवारी को लगा कोरोना का पहला

बेमेतरा जिले में लैब टेक्नोलॉजिस्ट संजय तिवारी को लगा कोरोना का पहला

by admin

• शनिवार को जिले के 179 स्वास्थ्य कर्मियों को लगा कोविड-19 का टीका

•प्रतिरक्षित लोगों को 15 फरवरी को दी जाएगी दूसरी डोज

बेमेतरा :  जिला अस्पतालबेमेतरा में मेडिकल लैब टेक्नोलॉजिस्ट संजय तिवारी को कोरोना का पहला टीका लगने के साथ ही शनिवार को टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई| वहीं दूसरा टीका नर्सिंग ऑफिसर रेखा विलास व तीसरा टीका मेट्रन देवयानी शिवारे को लगाया गया।

वैक्सीनेशन साइट में मुख्य मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सतीश शर्मा ने हेल्थ वर्करों को अपने हाथों से टीका कृत किया| सत्र के शुभारंभ अवसर पर नगर पालिका अध्यक्षा श्रीमती शकुंतला मंगत साहू, अपर कलेक्टर संजय दीवान, एसपी दिव्यांग पटेल, एएसपी विमल बैस, जिला प्रभारी संयुक्त संचालक सुभाष पांडे, कोविड नोडल अधिकारी डॉ. ज्योति जेसाठी, सिविल सर्जन डॉ. वंदना भेले, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ शरद कोहाड़े, यूनिसेफ से डॉ. कविता पटेल, डीपीएम अनुपमा तिवारी, आरएएमएनसीएच जिला कोआर्डिनेटर शोभिका गजपाल, मेट्रन देवजानी शिवारे व हास्पिटल सलाहकार आरती दत्ता आदि उपस्थित थे।

सीएमएचओ डॉ. शर्मा ने कहा आज वैक्सीनेशन की शुरुआत कोरोना से बचाव के लिए एक साधन वैक्सीन के रुप में आ गया है। किसी भी महामारी के खिलाफ लड़ाई में बीमारी की पहचान, उपचार व बचाव महत्तवपूर्ण चरण होते हैं। बचाव के रुप में मास्क, सेनेटाइजर, आपस में दूरी और वैक्सीन से सुरक्षा सबसे बड़ा साधन साबित हो सकता है। उन्होंने कहा वैक्सीन आने व लगने के बाद भी बचाव के साधनों के साथ जागरुकता के लिए कार्य करना जरुरी होता है। उन्होंने कहा, आज शाम पांच बजे तक पहले दिन जिले के बेमेतरा में 40, बेरला में 81 व नवागढ़ में 58 सहित179 हेल्थ वर्करों को कोविड-19 टीका से प्रतिरक्षित किया गया। प्रतिरक्षित लोगों को कोविड-19 टीका की अगली डोज के लिए 15 फरवरी की तारीख दी गई है। इसके लिए उनके मोबाइल पर मैसेज भी आएगा।इसी तरह बेरल सीएचसी के वैक्सीनेशन साइट में पहला टीका डेंटल सर्जन डॉ. रजनी ठाकुर वनवागढ़ सीएचसी में नॉन मेडिकल सुपरवाइजर उदयराम ध्रुव को लगाया गया।

कोविड नोडल अधिकारी डॉ ज्योति जसाठी ने भी आज कोरोना टीका लगाने के साथ ही स्वास्थ्य कर्मियों से अपील की और कहा टीका पूरी तरह सुरक्षित हैं। टीके को लेकर किसी तरह के भ्रम व भय करने की जरुरत नहीं है। उन्होंने कहा, आज जिले में टीके की शुरुआत हो गई लेकिन टीका लगने के बाद अभी तक प्रतिकूल प्रभाव की कहीं से कोई शिकायत नहीं आई है। जिले में लगभग 60 फीसदी हेल्थ वर्करों ने टीकाकरण की शुरुआत में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। डॉ ज्योति जसाठी से कहा, कोरोना वैक्सीन भारत में निर्मित व पूरी तरह से सुरक्षित है। जिले में कुल तीन अस्पतालों में भी जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की निगरानी में टीके को लांच किया गया। उन्होंने बताया जिले में अब तक 83,747 सैंपल की जांच के लिए भेजे गए हैं जिनमें 4849 मरीज पॉजिटिव आए हैं। अब तक 2297 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में 217 एक्टिव केस हैं तथा अब तक जिले में कुल 57 लोगों की कोरोना संक्रमण से मृत्यु हुई है।

जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. शरद कोहाड़े ने बताया कोरोना को मात देने के लिए वैक्सीन की 3030 डोज जिले को प्राप्त हो चुकी हैं।इसके भंडारण के लिए अत्याधुनिक तकनीक से 26 कोल्ड चेन बनाए गए हैं।

जिले में कोविड वैक्सीन का लगाया गया है लेकिन एक भी एईएफआई की रिपोर्ट नहीं मिली है। जिनको भी टीका लगाया गया है वह अपना अनुभव साझा कर बता रहे हैं कि वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है और टीके लगने से कोई दर्द भी नहीं हुआ। उन्होंने कहा,इस महत्वपूर्ण समय को उपयोग करना चाहिए और शासन के दिए हुए वैक्सीन जोकि विश्वव्यापी महामारी से बचाव में बहुत ही अमूल्य साधन है। इसका उपयोग करना चाहिए ताकि इस बीमारी से आप को बचा सकें।

शनिवार को लांचिंग के लिए जिला, ब्लॉक एवं टीकाकरण सत्र स्तर पर नोडल अधिकारियों और पर्यवेक्षकों को नामित किया गया था। इसके पहले जिले में एक बार ड्राई रन यानी पूर्वाभ्यास भी किया जा चुका है। डॉ. कोहाड़े ने बताया कि पहले डोज के बाद दूसरा डोज 28वें दिन लगेगा। टीका लगने के बाद आधे घंटे तक टीकाकरण केंद्र पर रुकना होगा। प्रतिरक्षित व्यक्ति को यदि बेचैनी या किसी भी तरह की समस्या होती है तो निकटतम स्वास्थ्य अधिकारियों, एएनएम और आशा को इसकी सूचना दें। इसके लिए एंबुलेंस सेवा 108 भी उपलब्ध रहेगी।

जिला प्रभारी नोडल अधिकारी संयुक्त संचालक डॉ. सुभाष पांडेय ने बताया, कोई व्यक्ति बिना पंजीकरण के कोरोना वैक्सीन नहीं प्राप्त कर सकता है। कोरोना वैक्सीनेशन के लिए पंजीकरण के बाद ही सत्र स्थल और समय की जानकारी दी जायेगी। फोटो आईडी पंजीकरण और सत्यापन दोनों के लिए जरूरी है। ऑनलाइन पंजीकरण के बाद लाभार्थी को वैक्सीनेशन की नियत तिथि, स्थान और समय के बारे में मोबाइल पर एसएमएएस प्राप्त होगा। कोरोना वैक्सीन की उचित खुराक मिलने पर लाभार्थी को उनके मोबाइल नंबर पर एक क्यूआर कोड आधारित प्रमाण पत्र भी भेजा जायेगा।

अनुपस्थित की बनेगी सूची

शनिवार को शुरू हुए कोविड-19 टीकाकरण अभियान के दिन कई ऐसे लोग भी रहे जिनका नाम कोविन पोर्टल पर पंजीकृत था लेकिन वह टीकाकरण के समय नहीं आए। अनुपस्थित लोगों की अब एक अलग सूची तैयार होगी। इन लोगों को टीकाकरण के लिए अलग से समय दिया जाएगा।

सत्यापन के लिए आवश्यक

अगर आप कोविड-19 टीकाकरण के लिए जा रहे हैं तो अपना एक पहचान पत्र ले आना न भूलें। इसमें आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आइडी एवं पैन कार्ड, पासपोर्ट, जॉब कार्ड, पेंशन दस्तावेज, मनरेगा कार्ड, स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, सांसदों, विधायकों, एमएलसी को जारी आधिकारिक प्रमाण पत्र, बैंक, पोस्ट ऑफिस की पासबुक, केंद्र, राज्य सरकार या पब्लिक लिमिटेड कंपनियों द्वारा जारी सेवा आईडी कार्ड आदि में कोई एक हो सकता है।

Share with your Friends

Related Articles

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More