Home देश मोबाइल बम से लेकर जहर की सूई तक…ऐसे दुश्मनों का सफाया करती है इजरायली खुफिया एजेंसी मोसाद

मोबाइल बम से लेकर जहर की सूई तक…ऐसे दुश्मनों का सफाया करती है इजरायली खुफिया एजेंसी मोसाद

by admin

नई दिल्ली | दिल्ली में इजरायली दूतावास के पास शुक्रवार को हुए आईईडी धमाके के बाद से दुनिया की बेहद घातक खुफिया एजेंसियों में शुमार मोसाद एक बार फिर सक्रिय हो गई है। 13 दिसंबर 1949 को स्थापित हुई इजरायल की इस एजेंसी को बदले की भावना के लिए जाना जाता है। यह अपने दुश्मन से हिसाब बराबर करने के लिए कार बम, लेटर बम और मोबाइल बम से लेकर जहर की सूई तक का सहारा लेती है। यही वजह है कि इस मामले में भारत सरकार की जांच पर मोसाद की भी नजर है।हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि इस मामले की जांच में भारत मोसाद को शामिल करेगा या नहीं। लेकिन इजरायली विदेश मंत्रालय ने इसे आतंकी वारदात करार दिया है। इजरायल ने भी पुष्टि की है कि उसके अधिकारी भारत के साथ लगातार संपर्क में है। जानिए मोसाद के कुछ हैरतअंगेज कर देने वाले कारनामे:

2012 के दिल्ली धमाके की वजह बताई
दिल्ली में यहूदी दूतावास के पास साल 2012 में भी एक बम धमाका किया गया है। इसके बाद इजरायली एजेंसी ने कुछ दिनों की जांच के बाद पता लगा लिया कि इस हमले में ईरानी सेना का हाथ था। ईरान से मोसाद की दुश्मनी पुरानी है। साल 2012 में ईरान ने अपने परमाणु वैज्ञानिक मसूद अली मोहम्मदी की हत्या में दोषी पाए गए इजरायली जासूस को फांसी दे दी थी।

अपने 11 खिलाड़ियों हत्यारों को ढूंढ़कर मारा
मोसाद ने 1972 में हुए म्यूनिख ओलिंपिक में इजरायली टीम के 11 खिलाड़ियों के हत्यारों को कई देशों में ढूंढ-ढूंढकर मौत के घाट उतार दिया। मोसाद की लिस्ट में 11 आतंकी थे, जो म्यूनिख में इजरायली खिलाड़ियों की हत्या के बाद अलग-अलग देशों में जाकर छिप गए थे। लेकिन मोसाद ने 20 साल के ऑपरेशन में सभी आतंकियों को खोजकर मार दिया।

ईरान के वेयरहाउस में घुसकर चुरा ली परमाणु अभियान की फाइलें
अपने दुश्मन देश ईरान की राजधानी तेहरान के वेयरहाउस में रात के अंधेरे में घुसकर परमाणु अभियान के राज से जुड़ी फाइलें चुराने का काम भी मोसाद कर चुका है। साल 2018 में मोसाद के इस खतरनाक मिशन का खुलासा न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट से हुआ था। मोसाद एजेंट्स अलार्म सिस्टम से छेड़छाड़ करके वेयरहाउस में घुसे थे। तकरीबन साढ़े 6 घंटे तक चलने वाले इस ऑपरेशन के दौरान मोसाद एजेंट्स टॉर्च की रोशनी के जरिए 50 हजार पन्ने और 163 सीडी लेकर निकले थे।

यासिर अराफात के करीबी को मारी गोली
मोसाद ने फिलस्तीन के नेता यासिर अराफात का दाहिना हाथ कहे जाने वाले खलील अल वजीर को ट्यूनिशिया में उसके परिवारवालों के सामने 60 से अधिक गोलियों से छलनी कर दिया। खलील को अबू जिहाद के नाम से भी जाना जाता था। इस मिशन को मोसाद के दो दर्जन से अधिक एजेंट ने अंजाम दिया।

रूसी मिग-21 लड़ाकू विमान चुराया
एक समय रूसी विमान मिग-21 की बड़ी धाक थी। 1960 के दशक में इसे अमेरिका हासिल करना चाहता था, लेकिन उसकी खुफिया एजेंसी इसमें असफल रही। इसके बाद इसकी जिम्मेदारी मोसाद को दी गई। 1964 में मोसाद की महिला एजेंट ने एक इराकी पायलट की मदद से विमान को इजरायल पहुंचा दिया। हालांकि विमान चुराने के पहले प्रयास में नाकाम रहने पर मोसाद के एक एजेंट को मिस्र में फांसी दे दी गई।

Share with your Friends

Related Articles

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More