Home देश आधे से ज्यादा लोगों ने सुई के डर से नहीं लगवाई वैक्सीन

आधे से ज्यादा लोगों ने सुई के डर से नहीं लगवाई वैक्सीन

by admin

ऑगस्टा । अमेरिका में 25 फीसदी लोग ऐसे हैं, जो सुई के डर से कोविड वैक्सीन नहीं लगवा रहे हैं? ऐसे लोगों को टीकाकरण स्टॉल तक लाने के लिए बीयर या लॉटरी टिकट की घूस भी सुई के डर को दूर नहीं कर पा रही है। शोध से सिद्ध हुआ है कि वयस्कों में सुई लगवाना दर्द, बेहोशी, घबराहट और भय जैसी बातों से जुड़ा है, लेकिन अगर उन कारणों को समझ लिया जाए, जिनकी वजह से सुई का डर इतना सामान्य हो गया है तो शर्मिन्दी को झेलना आसान होगा।
जेजी हैमिल्टन द्वारा 1995 में किए गए ऐतिहासिक अध्ययन के बाद से सुई का डर नाटकीय रूप से बढ़ गया है। हैमिल्टन के अनुसार 10फीसदी वयस्क और 25फीसदी बच्चे सुइयों से डरते थे। उस अध्ययन में, वयस्कों ने बताया कि उन्हें 5 साल की उम्र के आसपास सुई लगवाने के दौरान तनावपूर्ण अनुभव हुआ। मरीजों के बचपन के अनुभव आमतौर पर एक अप्रत्याशित बीमारी से संबंधित होते हैं, जब हैमिल्टन के अध्ययन में भाग लेने वाले प्रीस्कूल में थे, तब टीके केवल 2 वर्ष की आयु तक लगाने निर्धारित किए गए थे। हालांकि, 1980 के बाद पैदा हुए अधिकांश लोगों के लिए, 4 से 6 साल की उम्र के बीच दिए जाने वाले बूस्टर इंजेक्शन टीके के अनुभव का एक नियमित हिस्सा बन गए हैं। बूस्टर का समय प्रतिरक्षा को तो बढ़ाता है, लेकिन यह उम्र के उस दौर में लगाया जाता है, जब यह डर का कारण बन जाता है। 2012 में 1,024 बच्चों के एक कनाडाई अध्ययन में पाया गया कि 2000 या उसके बाद पैदा हुए 63फीसदी लोग अब सुइयों से डरते हैं। 2017 के एक अध्ययन में, इस वृद्धि की पुष्टि की गई- आधे प्रीस्कूलर जिन्होंने एक दिन में अपने सभी बूस्टर लिए -अक्सर एक बार में चार या पांच इंजेक्शन-अभी भी सुइयों से गंभीर रूप से डरते थे। अप्रत्याशित रूप से, सुई का डर इस बात को प्रभावित करता है कि किशोर और वयस्क टीका लगवाने के इच्छुक कैसे हैं। 2016 के एक अध्ययन में सुई का डर किशोरों के एचपीवी का दूसरा टीका नहीं लेने का सबसे आम कारण पाया गया।
2018 के एक अध्ययन में पाया गया कि अस्पताल के 27फीसदी कर्मचारियों ने सुई के डर के कारण फ्लू के टीके नहीं लगवाए। और अभी हाल ही में, अप्रैल 2021 में कोविड-19 का टीका नहीं लगवाने वाले 600 अमेरिकी वयस्कों के राष्ट्रीय सर्वेक्षण में पाया गया कि 52फीसदी ने सुई के मध्यम अथवा गंभीर डर के कारण ऐसा नहीं किया। वयस्कों में सुई के डर को कम करने के लिए इंजेक्शन अध्ययनों के निष्कर्षों के आधार पर कुछ संभावित उपायों का सुझाव दिया जा सकता है। साक्ष्यों से पता चलता है कि यदि सुई लगते समय बच्चों का ध्यान भटका दिया जाए तो उनके दर्द और डर को कम किया जा सकता है।

Related Posts