Home खास खबर छत्तीसगढ़ धर्म संसद 2021: सनातन संस्कृति राष्ट्र और समाज के लिए जरूरी

छत्तीसगढ़ धर्म संसद 2021: सनातन संस्कृति राष्ट्र और समाज के लिए जरूरी

by Surendra Tripathi

 रायपुर में धर्म संसद का आयोजन  में छत्तीसगढ़ के अलावा दिल्ली और अयोध्या से भी संत शामिल होने पहुंचे हैं।शनिवार 25 दिसंबर को शोभायात्रा के साथ धर्म संसद का आगाज हुआ। दूधाधारी मठ से एक कलश यात्रा रावणभाटा मैदान तक पहुंची। इस यात्रा में शामिल होने पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, विधायक विकास उपाध्याय और रायपुर नगर निगम के सभापति प्रमोद दुबे ,भाजपा नेता सच्चिदानंद उपासने भी शामिल थे। रावण भाटा मैदान में धर्म ध्वजा को रखकर सभी संतो ने पूजा-अर्चना की। इसी के साथ धर्म संसद की शुरुआत हुई। 26 दिसंबर तक चलने वाली इस धर्म संसद में यूपी से भी बड़ी तादाद में संत पहुंचे हुए हैं। सभी सनातन संस्कृति और हिंदू धर्म को लेकर अपनी बात इस धर्म संसद में रखेंगे। शहर और आसपास के इलाकों से भी लोग इन संतों को सुनने पहुंच रहे हैं।दूधाधारी मठ के प्रमुख महंत रामसुंदर दास ने कहा कि धर्म संसद लोगों को हिंदू धर्म और सनातन संस्कृति के बारे में जानकारी देने के लिए आयोजित की गई है। हम चाहते हैं कि लोग न सिर्फ इसे समझें बल्कि अपने आचरण में भी शामिल करें। यह राष्ट्र और समाज के लिए भी बेहद जरूरी है।

Share with your Friends

Related Articles

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More