Home देश बीएसपी :के के सिंह ने पदभार ग्रहण किया

बीएसपी :के के सिंह ने पदभार ग्रहण किया

by Surendra Tripathi

सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र के कार्यपालक निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन) के रूप में श्री के के सिंह ने पदभार ग्रहण किया। विदित हो कि श्री सिंह बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बी टेक उपाधि प्राप्त करने के साथ ही उन्होंने इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी से मानव संसाधन प्रबंधन में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा किया है। 1 जुलाई, 1968 को जन्मे श्री कृष्ण कुमार सिंह ने, सेल में 8 जुलाई, 1988 को जुनियर मैनेजर के रूप में भिलाई इस्पात संयंत्र से अपना कैरियर प्रारंभ किया। 30 जून, 1996 को  प्रबंधक के रूप में पदोन्नत हुए और ब्लूमिंग एण्ड बिलेट मिल में अपनी सेवाएं दी। तदोपरान्त 30 जून, 2001 को वरिष्ठ प्रबंधक के रूप में पदोन्नत होकर मानव संसाधन विकास विभाग में पदस्थ हुए। जहां वे 30 जून, 2005 को सहायक महाप्रबंधक बनाये गये।

श्री सिंह 19 फरवरी, 2008 को नगर सेवाएं विभाग के तहत संचालित शिक्षा विभाग में चीफ एजुकेशन आॅफिसर के रूप में पदस्थ हुए। यहां रहते हुए 30 जून, 2010 को उपमहाप्रबंधक (शिक्षा) के रूप में पदोन्नत हुए। डीजीएम के रूप में ही शिक्षा विभाग से उनका स्थानान्तरण 18 अगस्त, 2011 को सीईओ सचिवालय किया गया। 30 जून, 2015 को उन्हें महाप्रबंधक के रूप में पदोन्नत किया गया। 18 फरवरी, 2017 को महाप्रबंधक के रूप में सेल के दिल्ली स्थित कारपोरेट आॅफिस के आॅपरेशन डायरेक्टरेट में पदस्थ किये गये। 1 मई, 2017 को श्री के के सिंह कारपोरेट आफिस में सतर्कता विभाग के महाप्रबंधक बनाये गये। जहां 12 मार्च, 2018 को महाप्रबंधक प्रभारी बनाए गए।

श्री सिंह, 16 नवम्बर, 2018 को पदोन्नत होकर भिलाई इस्पात संयंत्र के कार्यपालक निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन) बनाए गए। तदोपरान्त 26 अक्टूबर, 2019 को वे काॅर्पोरेट आफिस स्थानान्तरित किए गये जहां वे कार्यपालक निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन) के रूप में अपनी सेवाएं दी। 31 दिसम्बर, 2021 को उनका स्थानान्तरण कार्यपालक निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन) के रूप में भिलाई इस्पात संयंत्र किया गया। आज दिनांक 20 जनवरी, 2022 को श्री सिंह ने बीएसपी के ईडी (पी एण्ड ए) के रूप में पदभार ग्रहण किया।

Share with your Friends

Related Articles

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More